चंद्र ग्रहण को देखने के लिये छतों पर नजर आये लोग


  • कोरोना काल का प्रथम चंद्र ग्रहण

  • लोगो ने सुख शांति कि कामनाएं की

कैराना(शामली),विशाल भटनागर ।चंद्र ग्रहण के लगने से पूर्व ही लोगो ने ईश्वर से सुख शांति की प्रार्थना की। उधर ग्रहण को लेकर लोग चाँद का दीदार करने को लेकर छतों पर डटे रहे। हालांकि कही चाँद में ग्रहण देखने को मिला तो कही चाँद बदलो में भी छिप कर रह गया। दरसल आपको बता दे की  चंद्र ग्रहण एक खगोलीय स्थिति है. जैसा कि हम जानते हैं कि चंद्रमा का अपना प्रकाश नहीं होता है परन्तु फिर भी यह चमकता है क्योंकि इसकी सतह सूर्य की किरणों को प्रतिबिंबित करती हैं. जब सूर्य और चंद्रमा के बीच में पृथ्वी आ जाती है तो चंद्र ग्रहण लगता है. परिणामस्वरूप यह सूर्य की किरणों को सीधे चंद्रमा तक पहुंचने से रोकती है। शुक्रवार को लोग इस नजारे को देखने के लिए छतों पर खड़े नजर आये और चंद्र ग्रहण को देखने की होड़ में रहे,हलाकि चंद्र ग्रहण के दीदार करना उस समय मुश्किल हो गया,जब यह घने बदलो में चाँद छिप गया।वही कुछ ही देर बाद फिर से चाँद दिखा लेकिन चाँद पूरा ही नजर आया। बताते चले की सूर्य और चंद्रमा के बीच में जब पृथ्वी आ जाती है और ऐसे में पृथ्वी चंद्रमा को पूरी तरह से ढक लेती है. उस समय चंद्रमा पूरी तरह से ऑरेंज कलर का नज़र आता है और इसी समय ही चंद्रमा पर धब्बे साफ देखे जा सकते हैं. यहीं आपको बता दें कि ऐसी स्थिति सिर्फ पूर्णिमा के दिन ही बनती है। पूर्णिमा को ही पूर्ण चंद्र ग्रहण लगने की संंभावना  होती है। इसे सुबर ब्लड मून भी कहा जाता है।
 आपको बता दें कि चंद्र ग्रहण को बिना चश्मे या लेंस के भी देखा जा सकता है।

Comments

Popular posts from this blog

8 जून से खुलेंगे धार्मिक स्थल,होटल, रेस्टोरेंट को भी खोलने की अनुमति, किन नियमो का करना होगा पालन

शामली में किया 6.86 करोड के विकास कार्यों का शिलान्यास

बडी संख्या में कोरोना पाॅजिटिव केस मिलने से मची खलबली

कोरोना संकर्मितो के मिलने से मस्तगढ, बिरालियान व हसनपुर को सील करने के निर्देश

लायंस क्लब द्वारा कोरोना योद्धाओं का किया गया सम्मान

कोरोना का कहर जारी,बर्तन व्यापारी की पत्नी मिली कोरोना पाॅजिटिव

सरकार देगी 7 प्रतिशत सब्सिडी के तहत लोन,जानिए क्या है योजना।