Breaking

Monday, 13 July 2020

क्यों लगाया भगवान शंकर को घरों में रहकर जलाभिषेक करने का नोटिस

  • कई शिव मंदिरों को लोगों को भीड को देखते हुए बंद रखा गया।
  • कोरोना संक्रमण को लेकर कावड़ यात्रा पहले ही स्थगित की गई है।
  • मंदिरों ने संक्रमण के चलते घरों में रहकर की जलाभिषेक करने का नोटिस लगाया।
  • श्रद्धालुओं ने सोशल डिस्टेसिंग का पालन कर  शिवालयों में जलाभिषेक किया।
भगवान शंकर को जलाभिषेक करते श्रद्धालु
शामली । सावन के दूसरे सोमवार को शहर के शिवालयों में जलाभिषेक किया गया। हालाकि कोरोना संक्रमण के चलते वैसे तो कांवड यात्रा स्थगित कर दी है वही श्रद्धालुओं से भी घरों में रहकर पूजा अर्चना करने की अपील की गई है। लेकिन सोमवार को श्रद्धालुओं ने सोशल डिस्टेसिंग के नियमों का पालन करते अपने अपने घर के नजदीक शिवालयों में जलाभिषेक किया है। इसके अलावा अधिकतर लोगों ने अपने अपने घरों में ही पूजा अर्चना की। मंदिर समिति के लोगों ने कोरोना संक्रमण के चलते मंदिर के कपाट भी बंद रखे।
 सोशल डिस्टेसिंग का पालन करते श्रद्धालुओं।
सावन के दूसरे सोमवार को मंदिर शिवालयों में भक्तों की भीड़ उमड़ती है। इसे देखते हुए पुलिस प्रशासन ने पहले ही लोगों से घरों पर पूजा अर्चना करने की अपील शुरू कर दी थी। धर्मगुरु मंदिर समिति के बैठक में भी उनसे सहयोग मांगा गया था, जिसके चलते मंदिर समितियों ने भी लोगों से अपील की कि वे इस बार जलाभिषेक के लिए मंदिर नए घरों में ही पूजा अर्चना करें। सावन के दूसरे सोमवार को कोरोना संक्रमण के कारण लोगों ने घरों में रहकर ही भगवान शिवलिंग पर जलाभिषेक किया। शहर के मंदिर हनुमान टीला हनुमान धाम, गुलजारी वाला शिव मंदिर, बलभद्र मंदिर, शिवचैक स्थित शिव मंदिर, मुक्तेश्वर महादेव शिव मंदिर सतीवाला आदि में लोगों ने पहुंचकर भगवान शिव को दूध, दही, शहद, बेलपत्र, धतूरा आदि से जलाभिषेक किया। मंदिर परिसर में सोशल डिस्टेसिंग का पूर्ण रूप से पालन किया गया। कई शिव मंदिरों को लोगों को भीड को देखते हुए बंद रखा गया। इस दौरान मंदिर कमैटियों द्वारा मंदिर गेट पर कोरोना संक्रमण के चलते घरों में रहकर की जलाभिषेक करने का नोटिस चस्पा किया गया था। कोरोना संक्रमण को लेकर कावड़ यात्रा पहले ही स्थगित की जा चुकी है

No comments:

Post a comment