Breaking

Tuesday, 14 July 2020

प्राइवेट स्कूलों की मनमानी: फीस नहीं तो ऑनलाइन शिक्षा नहीं,सरकारी आदेशों को दिखाया ठेंगा

  • ऑनलाइन क्लास के लिऐ भरवाए जा रहे सहमति पत्र।
  • सहमति पत्र के नाम पर फीस का दबाव बना रहे स्कूल।
  • फीस जमा न करने पर बच्चों को ऑनलाइन क्लास नहीं दे रहे स्कूल।
  • जिला विद्यालय निरीक्षक को पहले भी की शिकायत नहीं की कोई कार्यवाही।

जिला विद्यालय निरीक्षक की शिकायत पत्र देते अभिभावक

शामली। भारतीय अभिभावक संघ के पदाधिकारियों ने जिला विद्यालय निरीक्षक को ज्ञापन देकर शहर के एक प्राइवेट स्कूल पर फीस जमा न करने पर बच्चों को ऑनलाइन शिक्षा प्रदान न करने का आरोप लगाया है। उन्होंने स्कूल संचालकों पर अभिभावकों से सहमति पत्र भरवाए जाने के नाम पर फीस का दबाव बनाए जाने का आरोप लगाते हुए मामले में जांच कर कार्यवाही किए जाने की मांग की है।


मंगलवार को भारतीय अभिभावक संघ के अध्यक्ष अमित बेनीवाल के नेतृत्व में अभिभावकों ने जिला विद्यालय निरीक्षक सरदार सिंह को ज्ञापन सौंपा। जिसमें उन्होंने कहा कि शहर के स्कॉटिश इंटरनेशनल स्कूल द्वारा बच्चों को ऑनलाइन शिक्षा प्रदान की जा रही है। स्कूल संचालकों द्वारा अभीभावको से एक सहमति पत्र भरवाए जा रहा है। जिसमें ऑनलाइन शिक्षा संबंधित जानकारी ली जा रही है और फीस जमा करने का दबाव बनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जो अभिभावक सहमति पत्र जमा कराने के लिए जाते हैं। उन पर अनुचित तरीके से फीस का दबाव बनाया जाता है। वह स्कूल प्रबंधक ने गत 10 जुलाई से उन्हीं बच्चों को ऑनलाइन शिक्षा प्रदान की है। जिनकी फीस जमा है या फिर जिन अभिभावकों ने सहमति पत्र दिया है। जिसकी शिकायत पूर्व में भी अभिभावकों ने जिला विद्यालय निरीक्षक से की थी लेकिन मामले में कोई कार्यवाही नहीं हो सकी। स्कूल प्रबंधक अपनी मनमानी चला रहे हैं और ज्यादातर बच्चे ऑनलाइन क्लास से वंचित रह रहे हैं जो कि न्याय संगत नहीं है। उन्होंने कहा कि सरकार के नियमानुसार कोई भी स्कूल किसी भी बच्चे को ऑनलाइन क्लास से वंचित नहीं रख सकता। उन्होंने मामले में जांच कर कार्रवाई किए जाने की मांग की है। इस अवसर पर रविंद्र कुमार, सुनील कुमार, संजीव कुमार, राजीव देशवाल, रविंद्र कुमार, सोनू पाठक, गजेंद्र सिंह, रवि बालियान, प्रदीप कुमार, अरुण कुमार, सचिन कुमार, ब्रजवीर सिंह, राजीव कुमार, पवन कुमार, विनोद कुमार, कपिल मलिक आदि मौजूद रहे हैं।

No comments:

Post a comment