Breaking

Saturday, 11 July 2020

पुलिस शूटआउट से विकास एनकाउंटर तक का मामला किसी वेब सीरीज की स्क्रिप्ट से कम नहीं,सवाल उठाता एनकाउंटर

सवाल उठाता एनकाउंटर
आज पहली बात थोड़ी लंबी... पिछले आठ दिन में कानपुर, फरीदाबाद, उज्जैन से लेकर दोबारा कानपुर की दहलीज तक जो कुछ हुआ, वह किसी क्राइम थ्रिलर वेब सीरीज की स्क्रिप्ट से कम नहीं था। जिस दिन विकास दुबे और उसके गुर्गों ने शूटआउट में आठ पुलिसवालों की हत्या की थी, उसी दिन से यूपी में लोग कहने लगे कि एसटीएफ उसे छोड़ेगी नहीं। एनकाउंटर कर डालेगी। बाद में एक के बाद एक विकास के पांच गुर्गों का एनकाउंटर कर दिया गया। पैटर्न लगभग एक जैसा।

फिर विकास दुबे ने बाजी पलट दी। फरीदाबाद से पता नहीं कैसे चार राज्यों की पुलिस से बचकर उज्जैन पहुंच गया। रात वहीं गुजारी। सुबह उठा। चाय पी। दाढ़ी बनाई और महाकाल के दर्शन करने पहुंच गया। यहां आसानी से पुलिस को अपनी गिरफ्तारी दे दी। साफ हो चुका था कि एनकाउंटर तो अब होने से रहा, चार्टर्ड प्लेन की चर्चा के बीच यूपी एसटीएफ ने उसे सड़क के रास्ते कानपुर ले जाने का फैसला किया।

कानपुर से ठीक पहले 10-11 गाड़ियों में से एक गाड़ी पलटी और वही गाड़ी पलटी, जिसमें विकास बैठा था। हथकड़ी भी शायद नहीं रही होगी, इसलिए तो उसने पिस्तौल भी छीन ली। गाड़ी पलटने के बाद वह शायद रिवर्स में भाग रहा होगा, इसलिए सीने पर तीन-तीन गोलियां लगीं। हां, कुछ पुलिसवाले भी घायल हुए। 10 घंटे बाद जारी यूपी पुलिस के प्रेस नोट में कहा गया कि रास्ते में गाय-भैसों का झुंड सामने आ गया था। ड्राइवर ने अचानक गाड़ी मोड़ दी, जिससे वह पलट गई।

अब कुछ बातें जो हमारे रिपोर्टर्स ने बताईं...
पहली
: विकास ने यह सब क्यों किया था? जवाब भी जान लीजिए। पूछताछ में विकास ने बताया कि कानपुर के डीएसपी उसे लंगड़ा कहते थे, इसलिए उसने ठान लिया था कि इन्हें निपटाना है।
दूसरी: अंदरखाने की बात यह कि शूटआउट के बाद यूपी सरकार और पुलिस की काफी किरकिरी हो रही थी। एसटीएफ तय कर चुकी थी कि विकास दुबे को मारना है।

पढ़ें: जिस विकास दुबे को उज्जैन में निहत्थे गार्ड ने पकड़ा था, वह यूपी की हथियारबंद पुलिस से पिस्टल छीनकर कैसे भाग रहा था?

From Dainik Bhaskar 

via-India Today Live

Disclaimer:This story is auto-aggregated by a computer program and has been created or edited by India Today Live. Publisher:Dainik Bhaskar

No comments:

Post a comment