Breaking

Thursday, 27 August 2020

वन्यजीवों के अंग बेचने वाला चिकित्सक गिरफ्तार,टाइगर के नाखून, हिरण के सींग सहित कई प्रतिबंधित वस्तुएं बरामद

 

चिकित्सक को गिरफ्तार कर ले जाते क्षेत्रीय  वन अधिकारी व पुलिसकर्मी।

  • आयुर्वेदिक क्लीनिक पर की गई छापेमारी।
  • छापेमारी कर चिकित्सक को हिरासत में लिया।
  • क्लीनिक पर बेचे जा रहे थे वन्यजीवों के अंग।
  • टाइगर के नाखून, हिरण के सींग, सांप का लिंग बरामद।
  • अन्य कई प्रतिबंधित वस्तुएं भी बरामद की गई।

शामली। वन विभाग की टीम ने शहर कोतवाली पुलिस को साथ लेकर गांधी चौक स्थित एक आयुर्वेदिक क्लीनिक पर छापामारी करते हुए वन्यजीवों के अंग बरामद करने का दावा किया है। पुलिस द्वारा चिकित्सक को हिरासत में लिया गया। वही क्षेत्रीय वन अधिकारी द्वारा चिकित्सक के विरूद्ध मुकदमा दर्ज कराया गया है।

आयुर्वेदिक क्लीनिक से चिकित्सक को गिरफ्तार करते पुलिसकर्मी

जानकारी के अनुसार बुधवार को क्षेत्रीय वन अधिकारी धर्मवर्त भारद्वाज को किसी सामाजिक संगठन द्वारा सूचना मिली की शहर के गांधी चौक स्थित एक आयुर्वेदिक क्लीनिक पर वन्यजीवों के अंग बेचे जा रहे हैं, और अंगों की तस्करी की जा रही है। मामले को गंभीरता से लेते हुए क्षेत्रीय वन अधिकारी शामली कोतवाली पहुंचे, जहां से उन्होंने कोतवाली पुलिस को साथ लेकर गांधी चौक स्थित क्लीनिक पर छापेमारी की तथा पुलिस ने मौके से क्लीनिक संचालक डॉ निशांत गुप्ता पुत्र सुभाष निवासी मुरारी वाला कुआं को हिरासत में लिया। तलाशी लिए जाने पर क्षेत्रीय वन अधिकारी ने बताया कि मौके से टाइगर के नाखून, हिरण के सींग, सांप का लिंग सहित कई प्रतिबंधित वस्तुएं बरामद की गई हैं। जिनको अवैध रूप से तस्करी कर बेचा जा रहा था। पुलिस ने निशांत गुप्ता को हिरासत में लेकर मामले की जांच पड़ताल शुरू कर दी है। वहीं क्षेत्रीय वन अधिकारी धर्मवर्त भारद्वाज द्वारा निशांत गुप्ता के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है। शहर के मुख्य बाजार में स्थित क्लीनिक से वन्यजीवों  के प्रतिबंधित अवशेष मिलना शहर में चर्चाओं का विषय बना हुआ है।

अगली खबर को पढ़ने के लिए यहां  क्लिक करे 👇

एडीजी मेरठ जाॅन का शामली दौरा, जानिए क्यों लगाई पुलिस अधिकारियों को कडी फटकार

चिकित्सक को गिरफ्तार कर ले जाते क्षेत्रीय  वन अधिकारी व पुलिसकर्मी।


No comments:

Post a comment