Breaking

Wednesday, 16 September 2020

4 साल से बंद मकान का विद्युत बिल 1 लाख 38 हजार, महिला ने लगाए एसडीओ पर गंभीर आरोप

  

विद्युत बिल माफी को कलेक्ट्रेट पहुंचे भट्टा मजदूर।

शामली। झिंझाना क्षेत्र के गांव खोडसमा निवासी एक महिला ने जिलाधिकारी को प्रार्थना पत्र देकर विद्युत विभाग के एसडीओ पर विद्युत कनेक्शन समाप्त करने की एवज में रिश्वत मांगने व शारीरिक इज्जत की दावत देने की मांग करने का आरोप लगाया है। वहीं एक ओर व्यक्ति ने जिलाधिकारी को प्रार्थना पत्र देकर 4 साल से बंद पड़े मकान का करीब 1 लाख 38 हजार का विद्युत बिल भेजने का आरोप लगाया है। दोनों पीड़ितो ने मामले में जांच कर कार्यवाही किए जाने की मांग की है।

झिंझाना क्षेत्र के गांव खोडसमा निवासी कविता पत्नी ध्यान सिंह ने जिलाधिकारी जसजीत कौर को प्रार्थना पत्र देकर बताया कि गत 12 जुलाई 2014 को उसने गांव खोड सामा में घरेलू विद्युत कनेक्शन लिया था। जिसके बाद पिता की तबीयत खराब होने के कारण वह अपने मायके भनेड़ा एलम में चली गई थी। जिस कारण गांव खोडसमा में विद्युत मीटर का कोई उपयोग नहीं रहा। गत 20 सितंबर 2014 को विद्युत कनेक्शन समाप्त करने की मांग की गई। ग्राम प्रधान द्वारा भी अपने लेटर पैड पर यह संस्कृति की गई कि पीड़िता ग्राम छोड़कर अपने मायके चली गई है। जिस कारण विद्युत कनेक्शन इस्तेमाल नहीं हो पा रहा है। आरोप है कि गत 26 अगस्त 2020 को एक प्रार्थना पत्र एवं शपथ पत्र के माध्यम से कनेक्शन को समाप्त करने के लिए दिया गया था। जिसके बाद एसडीओ ऊन पंकज राठौर द्वारा 10 हजार की बतौर रिश्वत मांगी गई। महिला का आरोप है कि रिश्वत न देने की स्थिति में शारीरिक इज्जत की भी दावत देने को बोला गया। पीड़िता ने मामले में जांच कर उक्त एसडीओ के खिलाफ कानूनी कार्यवाही किए जाने की मांग की है।

वहीं दूसरी ओर बुधवार को कस्बा बनत के मोहल्ला हकीकत नगर निवासी तारा पुत्र जग्गा ने जिलाधिकारी जसजीत कौर को प्रार्थना पत्र देकर बताया कि वह एक भट्टा मजदूर है। जो पिछले 4 सालों से अपना मकान बंद कर मजदूरी करने के लिए दूसरे राज्य गया हुआ था। इस दौरान मकान बंद था, लेकिन मकान में लगे विद्युत मीटर का विद्युत विभाग के अधिकारियों द्वारा करीब एक लाख 38 हजार का बिजली बिल भेज दिया गया। जिसको वह भरने में सक्षम नहीं है। पीड़ित ने मामले में जांच करते हुए उक्त बिल को माफ कराए जाने व दोषियों के विरूद्ध कार्यवाही की मांग की है।

No comments:

Post a comment