Breaking

Tuesday, 1 September 2020

जानिए आचार्य प्रमोद कृष्णम सहित कांग्रेस कमेटी के प्रतिनिधिमंडल को पुलिस ने क्यों लिया हिरासत में

योगी सरकार कांग्रेस पार्टी से डर गई और वह लोगों को जातिगत और धर्म के आधार पर बांटकर राजनीति करना चाहती है:प्रदीप माथुर

आचार्य प्रमोद कृष्णम को रोकते हुए मुरादाबाद पुलिस।

  • कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के निर्देश पर बनाया गया था प्रतिनिधिमंडल।
  • प्रतिनिधिमंडल पीड़ित ब्राह्मण परिवार से मिलने जा रहा था गांव हसनपुर।
  • पुलिस फोर्स ने कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल को हिरासत में ले लिया।
  • आचार्य प्रमोद कृष्णन को भी मुरादाबाद पुलिस द्वारा हिरासत में लिया गया।

लांक चौकी पर हिरासत में बैठे कांग्रेस नेता।

शामली। शहर कोतवाली क्षेत्र के गांव हसनपुर में पीड़ित परिवार से मिलने जा रहे कांग्रेस नेताओं को जिला पुलिस प्रशासन द्वारा हिरासत में ले लिया। इस दौरान कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल ने प्रदेश की भाजपा सरकार पर हठधर्मिता करने और जनप्रतिनिधियों को पीड़ित पक्ष से न मिलने देने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि प्रदेश में गुंडाराज कायम है, यही कारण है कि लोग पलायन करने को मजबूर हैं।

गत 24 अगस्त को शहर कोतवाली क्षेत्र के गांव हसनपुर में पबजी गेम खेलने को लेकर दो पक्षों में कहासुनी के बाद झगड़ा हो गया था। जिसमें एक पक्ष के लोगों ने सवेरे श्रीनिवास शर्मा के मकान में घुसकर दावा बोल दिया था और श्रीनिवास सहित चार लोग गोली लगने से घायल हो गए थे। श्रीनिवास शर्मा की ओर से श्रीपाल सहित छह लोगों के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज कराया गया था। मामले में पुलिस श्रीपाल, शीशपाल व विशाल सहित चार लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है। वहीं दूसरी ओर पुलिस द्वारा करीब 4 दिन बाद आरोपी श्रीपाल के भाई अमरपाल की तरफ से भी घायल संजय शर्मा सहित पांच लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया था। मुकदमा दर्ज होने पर ब्राह्मण समाज के लोगों में रोष फैल गया था और उन्होंने पुलिस पर झूठी रिपोर्ट दर्ज करने का आरोप लगाते हुए अपने मकानों के बाहर पलायन करने के पोस्टर चस्पा कर दिए थे। मामला ब्राह्मण समाज के लोगों के बीच पहुंचा तो ब्राह्मण समाज ने भी निष्पक्ष जांच न होने पर महापंचायत करने की चेतावनी दी थी। वहीं दूसरी ओर मंगलवार को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के निर्देश पर उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी का एक प्रतिनिधिमंडल गांव हसनपुर निवासी पीड़ित परिवार से मिलने के लिए पहुंचा। लेकिन इससे पूर्व ही लांक चौकी पर अपर पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार श्रीवास्तव, एसडीएम सदर संदीप कुमार, सीओ कैराना, कोतवाली प्रभारी सत्यपाल सिंह, एसओ आदर्श मंडी संदीप बालियान सहित पुलिस फोर्स ने कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल को हिरासत में ले लिया और उनको थाना फुगाना में ले जाकर नजर बंद कर दिया गया।

लांक चौकी पर कांग्रेस नेताओं से बात करते पुलिस अधिकारी।

इस दौरान अलीगढ़ के पूर्व विधायक प्रदीप माथुर ने कहा कि वह पीड़ित पक्ष से मिलने जा रहे थे। जहां वे दोनों बिरादरी के लोगों को बैठाकर समझौता कराने का प्रयास करना चाहते थे। लेकिन उत्तर प्रदेश की योगी सरकार कांग्रेस पार्टी से डर गई और वह लोगों को जातिगत और धर्म के आधार पर बांटकर राजनीति करना चाहते हैं। यही कारण है कि उनको गांव में नहीं जाने दिया गया और रोक लिया गया। उन्होंने कहा कि यह देश हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई सभी का देश है। लेकिन प्रदेश सरकार देश के संविधान को पैरों के नीचे कुचलने का काम कर रही है। वहीं मथुरा से आए आचार्य विष्णु मोदिया ने कहा कि उत्तर प्रदेश में ब्राह्मण समाज के लोगों पर अत्याचार किया जा रहा है। आए दिन ब्राह्मण समाज के लोगों की हत्याएं हो रही हैं। प्रदेश में गुंडाराज कायम होने की वजह से ही यहां से ब्राह्मण समाज के लोग पलायन करने को मजबूर हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि प्रदेश सरकार मुसलमानों और ब्राह्मणों को टारगेट कर राजनीति कर रही है। इस अवसर पर पूर्व सांसद हरेंद्र मलिक, कांग्रेस प्रदेश सचिव सत्यम सैनी, जिला अध्यक्ष दीपक सैनी आदि लोग मौजूद रहे हैं। वहीं दूसरी ओर गांव हसनपुर में ब्राह्मण समाज से मिलने जा रहे आचार्य प्रमोद कृष्णम को भी मुरादाबाद पुलिस द्वारा हिरासत में लिया गया। इस दौरान पूर्व मंत्री सतीश शर्मा, एमएलसी प्रत्याशी जेके गौड, प्रदेश युवा अध्यक्ष योगेश दीक्षित, प्रदेश महासचिव बदरुद्दीन, पूर्व जिलाध्यक्ष शामली ओमप्रकाश शर्मा हिरासत में लिए गए।

पूरी खबर को जानने के लिए यहां क्लिक करे 👇


No comments:

Post a comment