Breaking

Saturday, 12 September 2020

जानिए क्या दिल्ली-सहारनपुर रेल लाइन पर इस वर्ष दौड सकेंगी इलैक्ट्रिक ट्रेन


  • अल्ट्रासोनिक फ्लो डिटेक्टर तकनीक से रेलवे ट्रैक की जांच की गई।
  • तीन डिब्बों की स्पेशल कोच ट्रेन शामली स्टेशन पहुंची।
  • यूएसएफडी तकनीक से पटरियों के क्रेक तलाशे गए।
  • लोनी-शामली विद्युत पोल लगाने का कार्य एक सप्ताह में पूरा होगा।
  • ऊंचाई वाले वाहनों के 15 सितंबर से हाईटेंशन करंट के कारण गुजरने पर चेतावनी।

शामली। दिल्ली-शामली रेलवे लाइन पर पटरियों के क्रेक तलाशन के लिए फिर से यूएसएफडी तकनीक से जांच की गई। पिछले करीब साढ़े पांच माह से दिल्ली-शामली-सहारनपुर रेलवे लाइन पर रेलगाड़ियों का सामान्य संचालन बंद है।

शामली से रेलवे कर्मचारियों के लिए दिल्ली एक अप-डाउन डीएमयू ट्रेन चलायी जा रही है, जिसमें सामान्य यात्रियों के लिए कोई सुविधा नहीं है। रेलवे के ट्रैक इंजीनियरों की टीम ने गत शुक्रवार को एक बार फिर दिल्ली से शामली तक यूएसएफडी तकनीक से रेलवे ट्रैक की जांच की। सवेरे तीन डिब्बों की स्पेशल कोच शामली स्टेशन आयी और दोपहर 2.40 बजे वापस दिल्ली के लिए रवाना हुई। अति आधुनिक मशीन अल्ट्रासोनिक फ्लो डिटेक्टर (यूएसएफडी) से रेल लाइनों की एक्सरे करती है। इससे पता चलता है कि लाइन कमजोर है या दुरुस्त। लाइन कब तक चलने में सक्षम है। इसी रिपोर्ट के आधार पर रेल लाइनों की मरम्मत की जाती है। लाॅकडाउन में कार्य चार महीने प्रभावित रहा था। अनलाॅक में काम शुरू हुआ जो अब काफी तेजी से चल रहा है।

वहीं दूसरी ओर कई दशकों से दिल्ली- शामली रेलवे लाइन के विद्युतीकरण की आस लगाए बैठे लोगों के लिए एक अच्छी खबर है। लोनी से शामली तक विद्युत पोल लगाने का कार्य अगले सप्ताह पूरा हो जाएगा, जिसके बाद तार खींचने का कार्य शुरू होगा। उत्तर रेलवे ने इस रेलमार्ग पर अधिक ऊंचाई वाले वाहनों के 15 सितंबर से हाईटेंशन करंट के कारण गुजरने पर चेतावनी जारी कर दी है, ताकि कोई वाहन तारों में उलझ न सके। रेलमंत्री सुरेश प्रभू ने वर्ष 2015 के रेल बजट में दिल्ली-शामली-सहारनपुर रेलवे लाइन के विद्युतीकरण और दोहरीकरण की घोषणा की थी। इन परियोजनाओं का शिलान्यास तत्कालीन रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा ने नानौता में किया था। कई बार निर्माण एजेंसी के बीच में चले जाने के कारण विद्युतीकरण कार्य में विलंब होता रहा है। इस वर्ष एक जनवरी से खेकड़ा में विद्युतीकरण कार्य शुरू हुआ था, लेकिन कोरोना महामारी के चलते लोनी-शामली खंभों का काम पूरा नही हो सका था। लेकिन ही लाइन खींचना का कार्य शुरू हो जायेगा। दिल्ली-सहारनपुर रेल लाइन पर इस वर्ष अंत तक इलैक्ट्रिक ट्रेनों का संचालन शुरू होने की उम्मीद है।



No comments:

Post a comment