Breaking

Sunday, 20 September 2020

तेज रफ्तार ट्रक से कुचलने पर दो युवकों की दर्दनाक मौत,गुस्साए परिजनों ने शव को सड़क पर रखकर किया हंगामा

मृतकों के शव के पास रोते बिलखते परिजन।

  • बाइक पर सवार हो खाना खाने के लिए निकले थे दोनों युवक।
  • गुस्साए परिजनों ने शव को सड़क पर रखकर लगाया जाम।
  • करीब 2 घंटे बाद एसडीएम के आश्वासन के बाद जाम खुल सका।

सड़क पर जाम लगा कर रोते बिलखते परिजन।

शामली। मेरठ करनाल हाईवे पर तेज रफ्तार ट्रक ने बाइक सवार दो युवकों को कुचल कर मौत के घाट उतार दिया। दुर्घटना के बाद गुस्साए परिजनों ने शव को सड़क पर रखकर जाम लगा दिया। सूचना पाकर मौके पर पहुंचे एसडीएम सदर व सीओ सिटी ने किसी तरह परिजनों को समझा-बुझाकर शांत करने का प्रयास किया, लेकिन परिजन मृतक के आश्रितों को आर्थिक सहायता प्रदान करने और ट्रक चालक के खिलाफ कठोर कार्यवाही किए जाने की मांग पर अडे रहे। करीब 2 घंटे बाद एसडीएम के आश्वासन के बाद जाम खुल सका। पुलिस ने दोनों शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

जाम खोलने के लिए लोगो को समझते सीओ।

आदर्शमंडी क्षेत्र के गांव मुडेट निवासी 18 वर्षीय वाशु पुत्र स्व बबली व पडौस का ही 19 वर्षीय आशीष पुत्र सुरेश शहर के आरके इंटर कालेज के निकट बैटरी व ट्रेक्टर की दुकान में मजदूरी करते थे। बताया जाता है कि शनिवार दोपहर आशीष अपनी बाईक से खाना खाने के लिए घर के लिए चला तो इसी दौरान उसका दोस्त वाशु भी पीछे बैठ लिया। आरोप है कि जब वह दोनों एमएस फार्म के निकट गांव की ओर मुड रहे थे तो इसी दौरान पीछे से तेज गति से आ रहे अनियंत्रित ट्रक के चालक ने बाईक में जोरदार टक्कर मार दी। टक्कर इतनी भीषण थी कि दोनों युवकों की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई, जबकि ट्रक का चालक बिना रूके मौके से फरार हो गया। प्रत्यादर्शियों के अनुसार ट्रक चालक कई किलोमीटर तक बाईक को अपने साथ घसीटते हुए ले गया। दुर्घटना की सूचना पर परिजन मौके पर पहुंचे और मृतक युवकों के शव देख उनमें आरोपी ट्रक चालक के खिलाफ रोष फैल गया। परिजनों ने ग्रामीणों की मदद से दोनों युवकों के शवों को मेरठ करनाल मार्ग पर रखकर जाम लगा दिया। जाम लगते ही वाहनों की दोनों ओर लंबी लंबी कतारे लग गई। सूचना पाकर सीओ सिटी प्रदीप सिंह व थाना आदर्शमंडी तथा शहर कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंची और हंगामा कर रहे परिजनों को किसी तरह समझा बुझाकर शांत करने का प्रयास किया, लेकिन परिजन नही माने और वह मृतक के आश्रितों को आर्थिक सहायता प्रदान करने तथा आरोपी ट्रक चालक की गिरफ्तारी की मांग करने लगे। इस दौरान ग्रामीणों और पुलिसकर्मियों की तीखी नोकझोक भी हुई। करीब दो घंटे चले जाम के दौरान एसडीएम सदर संदीप कुमार भी मौके पर पहुंचे और उन्होने परिजनों को आर्थिक सहायता प्रदान कराने और आरोपी ट्रक चालक की गिरफ्तारी अहमदगढ चैकी पर होने की सूचना दी, जिसके बाद परिजन शांत हुए। परिजनों ने आये दिन होने वाली दुर्घटनाओं से बचाव को गांव के बाहर ब्रेकर भी लगवाये जाने की मांग की। बाद में पुलिस ने मृतकों के शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। दुर्घटना के कारण जाम लगाए जाने से ट्रेफिक पुलिसकर्मियों को जाम खुलवाले में काफी मशक्कत करनी पडी।

No comments:

Post a comment