Breaking

Tuesday, 8 December 2020

रालोद,सपा व भीम आर्मी कार्यकर्ताओं को पुलिस ने किया गिरफ्तार, किसानों के अलावा किसी भी राजनैतिक संगठनों को नहीं लगाने दिया जाम

धरने पर बैठे रालोद कार्यकर्ता।

  • रालोद व सपा कार्यकर्ताओं को पुलिस द्वारा हिरासत में लिया गया।
  • भीम आर्मी कार्यकर्ताओं को भी गिरफ्तार किया गया।
  • पुलिस ने राजनैतिक संगठनों के पदाधिकारियों को जाम लगाने से रोका।
  • राजनैतिक संगठनों के पदाधिकारियों की पुलिसकर्मियों के साथ तीखी नोकझोंक भी हुई। 
  •  पुलिसकर्मियों के साथ तीखी नोकझोंक करते राजनैतिक संगठनों के पदाधिकारी।

शामली। मंगलवार को किसानों के भारत बंद के दौरान रालोद व सपा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में लेकर अस्थाई जेल भेजा। इसके अलावा शहर के गुरूद्वारा तिराहे से भीम आर्मी कार्यकर्ताओं को भी गिरफ्तार किया गया। किसानों के अन्दोलन में समर्थन करने वाले राजनैतिक संगठनों के जिलाध्यक्षों को सवेरे से ही उनके आवास पर नजर बंद कर रखा गया। पुलिस ने किसानों के जाम के अलावा किसी भी राजनैतिक संगठनों के पदाधिकारियों द्वारा जाम नही लगने दिया। जिसके चलते कई स्थानों पर राजनैतिक संगठनों के पदाधिकारियों की पुलिसकर्मियों के साथ तीखी नोकझोंक भी हुई। 

घर में नजरबंद किए गए रालोद जिलाध्यक्ष योगेन्द्र तोमर।

केन्द्र सरकार द्वारा किसानों के कृषि कानून को पास करने के विरोध में मंगलवार को किसान के भारत बंद में विभिन्न राजनैतिक संगठनों के पदाधिकारियों व नेताओं द्वारा अपना समर्थन दिया गया। सवेरे जैसे ही राजनैतिक संगठनों के जिलाध्यक्ष की आंख खुली तो उनके घर के बाहर पुलिस बल तैनात मिला। शहर के चैधरी चरण सिंह कालोनी स्थित रालोद जिलाध्यक्ष योगेन्द्र सिंह चैयरमैन के आवास पर पुलिस बल तैनात किया गया था। जहां आदर्शमंडी थाना प्रभारी संदीप बालियान, कर्मवीर सिंह ने पीएसी बल के साथ रालोद जिलाध्यक्ष को उनके आवास पर ही नजर बंद किए रखा, जहां से उनको निकलने नही दिया गया। इसके अलावा समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष अशोक चैधरी, कांग्रेस पार्टी के जिलाध्यक्ष दीपक सैनी को भी पुलिसकर्मियों द्वारा उनके आवास पर ही नजर बंद कर रखा गया। इसके अलावा दर्जनों की संख्या में रालोद कार्यकर्ता पार्टी कार्यालय में एकत्रित होकर अजंता चौक पर जाम लगाने के लिए निकले तो एसडीएम सदर संदीप कुमार व सीओ सिटी प्रदीप कुमार ने पुलिस के साथ उनको रास्ते में ही रोकने का प्रयास किया, लेकिन वह पुलिस को चकमा देकर बच निकले, जिसके बाद उन्होने शहर के अजंता चैक पर किसान विरोधी कृषि कानून के विरोध में जमकर नारेबाजी करते हुए मेरठ-करनाल मार्ग स्थित एक साईड में जाम लगाते हुए धरने पर बैठ गए। इस दौरान रालोद कार्यकर्ताओं ने केन्द्र सरकार पर गंभीर आरोप लगाते हुए जमकर नारेबाजी की। इस दौरान पूर्व विधायक नवाजिश आलम भी अपने समर्थकों के साथ जाम में पहुंचे गए, जहां उनकी पुलिसकर्मियों के साथ तीखी नोकझोक भी हुई। इस दौरान एसडीएम व सीओ सिटी द्वारा हंगामा कर रहे रालोद कार्यकर्ताओं को कई बार समझाने बुझाने का प्रयास किया, लेकिन वह नही माने, जिसके बाद प्रशासन के आदेश पर रालोद कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर कोतवाली लाया गया, जहां से उनको थानाभवन में बनाई गई अस्थाई जेल भेज दिया गया। गिरफ्तारी में पूर्व विधायक नवाजिश आलम, राजेश्वर बंसल, अशरफ अली खान, वाजिद अली प्रमुख, रिशीराज राझड, सुनील मलिक, विक्रांत जावला, आशुतोष पंवार, सर्वेश सिंभालका, चैयरमैन जलालाबाद अब्दुल गफ्फार, सनोज मलिक, जाहिद ठेकेदार, विकास धीमान आदि शामिल रहे। इसके अलावा थानाभवन के चरथावल बस स्टेंड व गांव सिंभालका में भारत बंद में किसानों का समर्थन करते हुए जाम लगाने वाले समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं को भी पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया। जिसमें पूर्व जिलाध्यक्ष किरणपाल कश्यप, नफीस राणा, प्रदीप सिंभालका, डा. रामकिशन, रवि बालियान, राशिद पहलवान, अब्दुल गफार मलक, शेर सिंह राणा, संजय राणा, उत्तम सिंह सैनी, जाबिर राव, समीर मंसूरी, विपिन सैनी, रविन्द्र प्रधान, संजय उपाध्याय आदि शामिल रहे। इसके अलाव किसानों के विभिन्न संगठनों द्वारा शहर के गुरूद्वारा तिराहे पर लगाए गए जाम में अपना समर्थन करने पहुंचे भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। आदर्शमंडी पुलिस ने भीम आर्मी के सभी कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार करते हुए उनको आदर्शमंडी थाने में नजर बंद रखा गया। पुलिस ने किसानों के जाम के अलावा किसी भी राजनैतिक संगठनों के पदाधिकारियों द्वारा जाम नही लगने दिया। जिसके चलते कई स्थानों पर राजनैतिक संगठनों के पदाधिकारियों की पुलिसकर्मियों के साथ तीखी नोकझोंक भी हुई। 


No comments:

Post a Comment